जानें क्यों आईपीएल 10 में अंपायरिंग का स्तर रहा काफी नीचे

आईपीएल 10 की शानदार शुरुआत के बाद सबको इंतज़ार था एक से एक बढ़िया आईपीएल के मैचों का।
खिलाड़ियों का प्रदर्शन का तो सब बेसब्री से इंतज़ार करते है उनके अच्छे और बुरे प्रदर्शन पर भी सबकी नज़र रहती है लेकिन इन सबके पीछे एक व्यक्ति का अहम रोल होता है और वो है अंपायर का।
Image: गूगल

अंपायर का एक गलत और सही निर्णय पुरे मैच का पास पलट सकता है। ऐसे ही आईपीएल 2017 में अंपायरिंग का सबसे ज्यादा बुरा हाल रहा है काफी सारे निर्णय ऐसे थे जिसमें ख़िलाड़ी के साफ़ साफ़ आउट होने के बाद भी उन्हें नॉट आउट दिया गया। चाहे वो एलबीडबल्यू हो या विकेट के पीछे कैच लेने का निर्णय।
Copyright Holder

हैदराबाद और किंग्स एलेवेन के बीच खेले गए मैच में जब मनन वोहरा 32 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे तो नबी की इन गेंद बिलकुल बीचो बीच मनन के पैड में लगी और वो साफ़ तौर पर आउट थे लेकिन अंपायर दांडेकर ने वोहरा को नॉट आउट करार दिया इसी मैच में वोहरा ने शानदार 95 रन बनाए।
मुम्बई इंडियंस के कप्तान रोहित शर्मा को तो दो बार एलबीडबल्यू आउट दिया गया हालांकि वो साफ़ नॉट आउट थे। इसके इलावा रोबिन उथापा को आउट होने के बावजूद भी आउट नहीं दिया गया।